रथ पर सवार मनोरथ यात्रा !

Posted 11:56 pm by व्‍यंग्‍य-बाण in लेबल: , ,
व्यंग्य -
पीएम इन वेटिंग, भाजपा के लौहपुरूष, पूर्व उपप्रधानमंत्री, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष, सांसद वगैरह-वगैरह। लोगों ने कई नाम दिए, जुमले बनाए और कुछेक उपलब्धियां आडवाणी जी ने हासिल की। वैसे पीएम इन वेटिंग इन सबसे भारी जुमला है, क्योंकि वेटिंग करने वाले हमेशा इंतजार करते रहते हैं, मौके का फायदा कोई और ले जाता है यानि मेहनत किसी और की फील गुड का मजा किसी और को। यह तो दुनिया का दस्तूर है कि मेहनत करे मुर्गा और अंडा खाए फकीर। मतलब अटल जी ने बोया, अब आडवाणी काट रहे हैं, आडवाणी बोएंगे, तो मोदी, गड़करी, सुषमा, उमा, शिवराज या रमन जी में से कोई न कोई तो काटेगा ही। अब रथयात्रा को ही लीजिए, आमतौर पर साल भर में एक बार पुरी में जगन्नाथ जी, सुभद्रा और बलदाऊ जी की रथयात्रा निकाली जाती है, दशहरे के दिन मर्यादा पुरूषोत्तम राम, लक्ष्मण, हनुमान का रूप धरकर कलयुगी मानुष रथ पर सवार होकर रावण मारने के लिए निकल पड़ते हैं। इसके अलावा तीसरी रथयात्रा तो हमने आडवाणी जी की सुनी है। कहीं यह रथयात्रा, मनोरथ पूर्ण करने यानि पीएम इन वेटिंग के जुमले को पुख्ता करने के लिए तो नहीं आडवाणी साहब ! वैसे शक करना हम भारतीयों का सबसे अहम् काम है, खासकर पत्रकार होने के बाद शक करना तो जैसे परंपरा हो जाती है। मेरे एक परम करीबी, अजीज मित्र को हर बात में शंका के बादल उमड़ते-घुमड़ते दिखाई देते हैं। मैं उसके गेट वेल सून होने की बार-बार कामना करता हूं, पर बंदा है कि मानता ही नहीं। कभी भाजपा का मुखौटा रहे अटल जी इस वक्त डाउन फाल पर हैं, बल्कि यूं कहिए कि अस्वस्थ हैं, इस वजह से धीरे-धीरे भाजपाईयों के बैनर पोस्टर से उनकी तस्वीरें हटने लगी हैं, यह तो 24 कैरेट सोने से भी खरा सत्य है कि उगते सूरज को हर कोई सलाम करता है। अब देखिए न, जब अटल जी जब सत्तासीन थे, हुकूमत के हुजूरे आला थे तो लोग बैनर-पोस्टर में भले ही अपनी तस्वीर न लगवाएं, पर अटल जी तो विद्यमान रहते ही थे। उनकी कविताओं को बड़े गर्व से, चाव से, रस ले लेकर सुनते और सुनाते थे, हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगा, काल के कपाल पर लिखता हूं मिटाता हूं, गीत नया गाता हूं। परंतु धीरे-धीरे भाजपाईयों की स्मृतियां धूमिल होने लगी हैं, अटल जी तस्वीर उनके मानस से अब धुंधली होने लगी है। जगन्नाथ रथयात्रा या दशहरे के दिन निकलने वाली रथयात्रा महज एकाध दिन में पूरी हो जाती है, पर रामराज में विश्वास रखने वाली पार्टी के हाईकमान आडवाणी साहब की रथयात्रा बड़ी लम्बी-चौड़ी है, 40 दिन, 23 राज्य, 100 जिले, हजारों किलोमीटर सफर और पार्टी के लाखों समर्थक। जितना लम्बा यह सफर है, हमें तो लगता है कि उतना ही बड़ा मनोरथ भी इस रथ पर सवार है। अन्ना हजारे के तांडव से झटके खा-खाकर किसी तरह संभली सोनिया जी की सरकार आई मीन कांग्रेस नीत गठबंधन की सरकार को अब फिर से संभल जाना चाहिए, क्योंकि वक्त पूरी रफ्तार से दौड़ है। वक्त कितनी तेजी से निकल जाता है, यह पता ही नहीं चलता, और जब तक वक्त निकल जाने का अहसास होता है तो सिर्फ हाथ मलना ही बाकी रह जाता है। 5 बरस की केन्द्र सरकार का काउंटडाउन भले ही अभी शुरू न हुआ हो। लेकिन उसके हिस्से में कलमाड़ी, राजा, मारन के बोए गए टू जी, कामनवेल्थ घोटाले के कांटों की धार अब भी कम नहीं हुई है। बबूल के कांटों से लबरेज सत्ता के ताज का वजन लगातार बढ़ रहा है। इस रथयात्रा से आडवाणी का मनोरथ पूरा होगा या मोदी बाजी मार ले जाएंगे या हो सकता है कि बिल्ली के भाग से छींका टूटे ही नहीं, यह सब तो भविष्य की गर्त में है, पर एक बात तो साफ है कि देश के हालात और भ्रष्टाचार से त्रस्त हो चुकी जनता का मन बदलाव की बयार की तरफ मुड़ने लगा है।


2 comment(s) to... “रथ पर सवार मनोरथ यात्रा !”

2 टिप्पणियाँ:

S.N SHUKLA ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति, बधाई

कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें



"जाटदेवता" संदीप पवाँर ने कहा…

बेहतरीन लिखा है, अच्छे शब्द लेख में बिल्कुल सही कहा/बताया है



एक टिप्पणी भेजें